सुहाना सफ़र – 5

तब  लखनऊ  और  दिल्ली  के  बीच  सफ़र  करने  के  लिए  दो  ही  ट्रेन  सुविधाजनक  होती  थीं.  लखनऊ एक्सप्रेस  और  लखनऊ  मेल.  दोनों  ही  रात  को  चलती  थीं  और  सुबह  पहुँच  जाती  थीं.  एक्सप्रेस  कानपुर अलीगढ़  के  रास्ते  चलती  थी और  मेल  मुरादाबाद  के  रास्ते.   जाने  क्यों,  लेकिन  मेल  बेहतर  ट्रेन  मानी  जाती  थी.  हवाई  सफ़र  तब  इतना  प्रचलित  नहीं  था.  अधिकतर  राजनेता  व अन्य  विशिष्ट  जन  लखनऊ   मेल से  ही  दिल्ली  आना  जाना  पसंद  करते  थेइस  कारण  मेल  में  मुश्किल  से  जगह  मिलती  थी.  काफ़ी  दिन  पहले  बुकिंग  करनी  पड़ती  थी.  

 एक  दिन  सुबह  मुझे  पता  चला  कि  उसी  शाम  को  मुझे  दिल्ली  जाना  होगा.  बहुत  कोशिश  करने  पर  भी    तो  एक्सप्रेस  में  सीट  मिली    मेल  में.  मेरे  मित्र  इक़बाल  ने  कहा  कि  उसका  भाई  शायद  कुछ  करवा  सके.  वो  किसी  ट्रॅवेल  एजेंट  को  जानता  है.  शाम  तक  मुझे  मेल  में  थ्री  टिएर सेकेंड  क्लास  स्लीपर  का  एक   टिकट  मिल  गया.  बाँछें  खिल  गयीं.  लेकिन  यह  पता  चलने  पर  कि  टिकट  एक  बाइस  वर्षीय  सक्सेना   लड़के  के  नाम  से  है,  खिली  हुई  बाँछें  एक  क्षण  में  मुरझा  गईं.  दूसरे  के  टिकट  पर  सफ़र  करने  के  जुर्म  में  जेल  की  सलाखों  के  पीछे  अपना  चेहरा  नज़र आने  लगा.  घबरा  कर  दोस्त  के  भाई  की  तरफ  देखा.  वो हँसने  लगा.  बोला, ‘ जाने  कितने  लोग  रोज़ाना  दूसरों  के  टिकट  पर  सफ़र  करते  हैं.  घबराने  की  ज़रूरत  नहीं  है.  कुछ  नहीं  होता.  बस  याद  रखना  कि  तुम्हारा  नाम  सक्सेना  है.’

लेकिन  सक्सेना  22  साल  का  लड़का  है  और  मैं  उससे  तकरीबन  दुगनी  उम्र  का  आदमी.  कैसे  चलेगा?’ मैंने  ऐतराज़  किया.

चलेगा  चलेगा.  टिकट  चेकर  मान  जाएगा.  डरने  की  बात  नहीं  है.’  उसने  आँख  मारते  हुए  कहा.  इशारा  साफ  था.

मजबूरी  थी.  जाना  तो  था  ही.  लिहाज़ा  गाड़ी  के  समय  से  काफ़ी  पहले,  जान  हथेली  पर  रख  कर  मैं  चारबाग  स्टेशन  पहुँचा  और  अपनी  सीट  पर  जा  बैठा.  धीरे  धीरे  अन्य  यात्री  आने  शुरू  हो  गये  थे.  मेरे  आस  पास  की  सभी  सीटों  पर  नौजवान  लड़के    बैठे.  हा  हा  ही  ही  करने  लगे.  गाड़ी  चलने  का  समय  करीब    गया.  डर  के  मारे  कलेजा  मुँह  को    रहा  था.    जाने  कब  टिकट  चेकर  के  रूप  में  यमराज   धमकें.  साथ  के  नौजवान  बात  कर  रहे  थे.

सक्सेना  नहीं  आया  अभी  तक.’

आता  होगा.  देर  से  आना  उसकी  फ़ितरत  है.’

ऐसी  भी  क्या  फ़ितरत?  गाड़ी  छूटने  को  है  और  साहब  का  अभी  तक  पता  ही  नहीं  कहाँ  हैं.’ 

अरे,  अब  तो  सिगनल  भी  हो  गया.  अब  कब  आएगा  सक्सेना?’

सक्सेना  नहीं  आएगा.’  अब  मैंने  मुँह  खोला.  सभी  नौजवान  हैरानी  से  मुझे  देखने  लगे.

आप  जानते  हैं  सक्सेना  को?’  एक  ने  पूछा.

नहीं.’

फिर  आप  कैसे  जानते  हैं  कि  वो  नहीं  आएगा?’

क्योंकि  उसका  टिकट  मेरे  पास  है.’  सभी  लड़के  भौंचक्के  से  मुझे  देखने  लगे.

आपके  पास  कैसे  आया?’  थोड़ी  देर  बाद  एक  ने  पूछा.

ट्रॅवेल  एजेंट  ने  दिया.’

लड़कों  को  एकदम  से  सब  समझ    गया.  ‘अच्छा,  तो  ये  बात  है.  पहले  तो  एजेंट  ने  सक्सेना  से  टिकट  कैंसल  कराने  के  पैसे  लिए.  फिर  उसने  वही  टिकट  आपको  ब्लैक  में  बेच  कर  डबल  मुनाफ़ा  कमाया!’

हाँ,  ऐसा  ही  हुआ  होगा.’  मैंने  कहा.  ‘अब  मेरी  एक  प्रॉब्लम  है.’

अंकल,  आप  ऐसा  करो  कि  अपना  टिकट  हमें  दे  दो  और  ऊपर  की  बर्थ  पर  जाकर  सिर  तक  चादर  ले  कर  सो  जाओ.  बाकी  हम  संभाल  लेंगे.’  एक  ने  सलाह  दी.

टिकट  दे  तो  दिया.  पर  डरता  रहा.  सक्सेना  के  दोस्त  हैं.  क्या  पता  चेकर  के  आने  पर  मुझे  फँसा  दें.  बिना  टिकट  सफ़र  करना  और  भी  बड़ा  जुर्म  है.  डरते  डरते  ऊपर  की  बर्थ  पर  चादर  ओढ़  कर  लेट  गया.

टिकट  चेकर  आया.  एक  लड़के  ने  उसके  हाथ  पर  टिकट  रखे.  सबके  नाम  और  उम्र  चेक  करके  बोला,  ‘ये  छठा  टिकट  किस  का  है.’

सक्सेना  का.  वो  ऊपर  सो  रहा  है.’  मेरी  तो  सांस  अटक  गई.  अगर  उसने  मुझसे  ही  पूछना  चाहा  तो?

ठीक  है.’  कह  कर  चेकर  आगे  बढ़  गया.  मेरी  सांस  दोबारा  चलने  लगी. बला  टली.  तभी  ख्याल  आया  कि  टिकट  अभी  भी  मेरे  पास  नहीं  है.

इन  नौजवानों  की  सदभावना  की  ज़रूरत  अभी  भी  थी  मुझे.  ख़ैर  सुबह  देखा  जाएगा.  तब  तक  किसी  तरह  रात  काटी.

सुबह  नौजवानों  ने  बड़े  आदर  के  साथ  चाय  पिलाई.  अंकल  अंकल  करते  रहे.  लेकिन  टिकट  नहीं  दिया.  मेरी  भी  हिम्मत  नहीं  पड़ी  माँगने  की.  दिल्ली  स्टेशन    गया  था.  हम  सब  एक  साथ  बाहर  की  ओर  चले.  बाहर  निकल  कर  ‘जान  बची  और  लाखों  पाए‘  का  जप  किया,  राहत  की  सांस  ली  और  ऑटो  पकड़ा.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s