यादें

नरेंद्र  भाई  साहिब और मैं अपने लैंबरेटा स्कूटर  पर  सवार  होकर  मुज़फ़्फ़रनगर  से  दिल्ली  के  लिए  एक आवश्यक  मीटिंग  के  लिए निकले. स्कूटर  मैं  चला  रहा  था. लगभग  115  किलोमीटर  के  इस  छोटे  से  रास्ते  पर  न  जाने  कितनी  बार  बिना  किसी  परेशानी  के चला  चुका था. लेकिन  इस  बार  कुछ  खास  ही था. खतौली  से  बाहर  निकलते  ही  सामने  से आने  वाली  तेज़  रफ़्तार  ट्रक  से  बचने  के  लिए  ब्रेक  लगाया तो  लगा  ही  नहीं. कच्चे  में  उतरना  पड़ा. उतरते  ही  देखा  कि  सामने  चार  आदमी  बैठे  हुए  ताश  खेल  रहे  हैं. ब्रेक  लग  नहीं  रहा  था.  स्कूटर  तेज़  था. उन्हें  बचाने  की  कोई  गुंजाइश  नहीं  थी. टक्कर  होना  पक्का  था. पता  नहीं  कैसे  मैं  उन  चारों  के  बीच  में  से, दो  आदमी  स्कूटर  के  एक  तरफ  और  दो  दूसरी  तरफ, निकालने  में  कामयाब  हो  गया. बीच  में  डाले  हुए  ताश  के  पत्ते  सूखी  पत्तियों  की  तरह  उड़ने  लगे. चारों  हड़बड़ाहट  में  उठ  खड़े  हुए  और  हवा  में  हाथ  नचाते  हुए  मुझे  गालियाँ  देने  लगे. मैं  रुक  नहीं सकता था.  मुमकिन  होता  तो  भी  नहीं  रुकता. पिटना  थोड़े  ही  था.

बड़े  ध्यान  से, धीरे  धीरे  चलाते हुए  मेरठ  पहुँचे. मकैनिक  ने  बताया  कि  औयल  सील  लीक  होने  के  कारण ब्रेक  ड्रम  में  तेल  आ  गया  है. सील  चेंज  कराई  जो  मोदीनगर  पहुँचने  से  पहले  ही  फिर  लीक  हो  गई. इसके  बाद  साइलेन्सर  भी  साथ  छोड़  गया. साइलेन्सर  ने  तो  हमारा  साथ  छोड़  दिया  पर  हम  कैसे  उसका साथ  छोड़  सकते  थे. पीछे  लौट  कर  गरमा गरम साइलेन्सर  उठा  कर  कॅरियर  पर  बाँधा. अब  इतना  समय नहीं  था  कि  मोदीनगर  में  साइलेन्सर  और औयल  सील  ठीक  करा  कर  मीटिंग  के  लिए  समय  पर  पहुँच सकें. बिना  साइलेन्सर  का  स्कूटर  इतनी  आवाज़  कर  रहा था  कि  घबराहट  के  मारे  दूर  दूर  तक  लोग सड़क  छोड़  कर  भाग  रहे  थे. किसी  प्रकार  टाइम  पर  मीटिंग  अटेंड  करके  बहन  के  घर  जंगपुरा  पहुँचे. वहीं स्कूटर  ठीक  कराया. भाई  साहिब  तो  अगले  दिन  बस  से  वापस  चले  गये. मैं  एक  दिन  और  रुक  गया.

मेरे  बहनोई  ने, जो  बर्मा  शेल  में  काम  करते  थे, मुझे  कहा  कि  तुम  इतना  अधिक  स्कूटर  चलाते  हो, तुम्हें हेल्मेट  पहनना  चाहिए. अपने  एक  डीलर  से  मुझे  हेल्मेट  दिलवा  भी  दिया. किसे  पता  था  कि अगले  दो  दिनों में  यह  हेल्मेट  मेरी  जान  बचाएगा.

कुछ समय पहले  ही मैंने  एक  जीप  खरीदी  थी  जो  उन  दिनों  निर्माणाधीन  नरोरा  एटॉमिक  पावर  प्रॉजेक्ट में  किराए  पर  चल  रही  थी. दिल्ली  से  मैं  नरोरा  चला  गया. नरोरा  अलीगढ़  से  अधिक  दूर  नहीं  है. पतली सी  बिल्कुल  सीधी  सड़क  नरोरा  को  मुख्य  सड़क  से  जोड़ती  है. सड़क  के  साथ  साथ  रेल  की  पटरी  है  और  दोनों  के  बीच, उन्हें  अलग  करने  के  लिए, लोहे  की  ही  रेलिंग  है. खाली  सड़क  पर  द्रुत  गति  से  मैं  स्कूटर चला  रहा  था  कि  खेतों  में  से  एक  बुग्गी  (भैंसा गाड़ी) निकल  कर  तेज़ी  से  मेरी  ओर  आने  लगी. बचने  के लिए  मैंने  स्कूटर  बाँयी  ओर  मोड़ा  और  उसका  हैंडल  रेलिंग  से  टकरा  गया. स्कूटर  मेरे  नीचे  से  निकल  गया. मैंने  दोनों  हाथों  से  रेलिंग  पकड़  ली  थी. रगड़ता  हुआ  थोड़ी  दूर  तक  गया. सिर  कई  बार  रेलिंग  से टकराया.   हेल्मेट ना  पहना  होता  तो  उस  दिन  मेरा  राम  नाम  सत्य  निश्चित  था. मैं  शॉक  में  था. सिर  को  घुटनों  के  बीच  दबा  कर  बैठा  हुआ  था. आँखें  बंद  थीं. कुछ  ही  क्षणों  में  कंधे  पर  किसी  का  स्पर्श  महसूस  किया. सिर  उठा  कर  देखा. मैले  कुचैले  कपड़े  पहने  एक  बदसूरत  आदमी, जिसे  देख  कर  बच्चे  डर  जाएँ, एक  गंदे  सा  अल्यूमिनियम  का  कटोरा  मेरी  ओर  बढ़ा  रहा  था. कटोरे  में  मटमैला  सा  पानी  था  जिसमें  कुछ  कीड़े  भी  तैर  रहे  थे. पता चल  रहा था कि  साथ  बहते  नाले  का  पानी  है. एक  सांस  में  सारा  पानी,  कीड़ों  सहित, पी  लिया.  उस समय  यह  पानी  मुझे  अमृत  लगा.

हाथ  खून  से  लाल  थे. रुमाल  के  दो  टुकड़े  किए  और  उस  देवता  समान, बदसूरत  आदमी  की  मदद  से  दोनों  हाथों  पर  बाँधा. थोड़ी  देर  बाद  लड़खड़ाती  टाँगों  पर  उठ  कर  स्कूटर  स्टार्ट  किया. एक  ही  किक  में  स्टार्ट  हो  भी  गया. वापस  नरोरा  की  ओर  रुख़  किया  और  पाया  कि  हैंडल  इतना  टेढ़ा  हो  गया  है  कि   सड़क  पर  सीधा  चलने  के  लिए  उसका एक सिरा  पेट  से  लगा  कर  रखना  होगा. किसी  प्रकार  नरोरा  पहुँच  कर  डिस्पेंसरी में  ड्रेसिंग  कराई.

मेकैनिक  के  नाम  पर  केवल  एक  लोहार  मिला. उसने  हैंडल  सीधा  करके  उस  पर  एक  क्लैंप  फिट  कर  दिया.  औयल  सील  उसके  पास  नहीं  थी. उसकी  जगह  उसने  ‘बेरजा’  नामक  एक  पदार्थ  ब्रेक  ड्रम  में  लगा  दिया.  उसने  बताया  कि  बेरजा  तेल  लगने  से  सख़्त  होता  जाता  है  और  मेरे  लिए  वह  ब्रेक  का  काम  करेगा. ऐसा  ही  हुआ  भी. इस  ही  हालत  में  मैं  स्कूटर  को  मुज़फ़्फ़रनगर  तक  ले  कर  आया.

 

Advertisements

6 thoughts on “यादें

    • taureansite says:

      Ok, Bits. We will explore the possibilities when we get together later this month. Your ordeal with Ramnavmi celebrations reminded me of own. Look out for another post in Hindi.

      Like

  1. Manjul says:

    जाको रखे साईया मार सके ना कोय।बहुत कुछ सिखा जाती हैं पुरानी यादें।
    Always remember old yaad.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s